समर्थक

Tuesday, 29 September 2009

"सत्य पर असत्य की विजय" - दैनिक जागरण





आपने इस समाचार का शीर्षक पढ़ा....

नही पढ़ा हो तो उपरोक्त कटिंग पर

चटका लगा कर

इसे बड़ा करके ध्यान से पढ़ें।

धन्यवाद! दैनिक जागरण!!

चाहे भूलवश् ही सही

वास्तविकता तो प्रकट कर ही दी।

बिल्कुल सही हैडिंग लगाया है-

आज वास्तव में

सत्य पर असत्य की ही

विजय हो रही है।

बहुत-बहुत बधाई!!

16 comments:

  1. हा हा हा....ये है जागरूक पत्रकारिता का नमूना!!!
    हद है!!

    ReplyDelete
  2. अब कहने सुनने को बचा ही क्या ?
    अक प्रश्न बार बार मन में आता है जब रामजी ने रावण को बानो
    से मारा था तो पुतला क्यों जलाते है ?

    ReplyDelete
  3. इसे कहते कैन फ्रायड की चूक. हमारी जिम्मेदार पत्रकारिता का एक नमूना.

    ReplyDelete
  4. रावण जला है मरा नहीं...जब तक वह मर नहीं जाता तब तक सत्य जीत ही नहीं सकता, इसीलिए दैनिक जागरण ने जो लिखा है वह सत्य ही तो है:)

    ReplyDelete
  5. लगता है की गलती से सच छप गया.
    लेकिन ये सच तो इस पत्रकार की नौकरी ले डूबेगा.
    इसीलिए आजकल लोग सच बोलने में घबराते हैं.
    बहुत अच्छा पकडा आपने.

    ReplyDelete
  6. आये दिन ऐसी गलतियाँ हर अखबार (including Times Of India) कर रही हैं .. फिर भी इनके तेवर जैसे के तैसे हैं ....

    ReplyDelete
  7. जय हो आधुनिक पत्रकारिता की

    ReplyDelete
  8. ये है हमारे आधुनिक पत्रकारिता का नमूना। बेहतरीन खोज... :)

    ReplyDelete
  9. सही तो लिखा है ...कहाँ नहीं हो रही सत्य पर असत्य की विजय ..!!

    ReplyDelete
  10. वाणी जी सही कह रही हैं आज कल तो यही सच है रवाण कहां मरता है

    ReplyDelete
  11. dainik jagran jaisa patr to sachchai hi parosta hai.

    ReplyDelete
  12. पत्रकारों को सजग और सचेत तो रहना ही चाहिए। शब्द के पांव लडख़ड़ाए कि आया भूचाल । आखिर दुनिया में शब्द, संवेदना और संस्कार की ही भूमिका अहम है। वैसे हर प्रोफेशन जिम्मेवारी का है और हमें पूरी जिम्मेदारी के साथ उसका निर्वहण करना चाहिए। इस खबर में हेडिंग लगाने में जो भूल की गई है उसकी भूल सुधार तो छापी जा सकती है पर अस्पतालों में डाक्टरों ने एक सुई गलत लगाई या फिर इंजीनियरों ने पुल की एंगल गलत बना दी या फिर पायलट ने कोई गुस्ताखी कर दी तो उसके बदले कोई भूल सुधार छापी नहीं जा सकती। सबका काम महत्वपूर्ण है, जिम्मेदारी का है और इसे संजीदगी और ईमानदारी से निभाना चाहिए। वैसे आपकी पकड़ और इसे प्रकाश में लाने के लिए बधाई।

    ReplyDelete

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।