समर्थक

Thursday, 17 December 2009

"भारत में पहली बार रुड़की में चली थी ट्रेन" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

"21 दिसम्बर, 1851 को पहली बार रुड़की में चली थी ट्रेन"

रुड़की शहर की पहचान पिरान कलियर और आई.आई,टी. (रुढ़की यूनिवर्सिटी) के कारण ही है, किन्तु बहुत कम लोग यह जानते हैं कि भारत में पहली बार ट्रेन भी इसी शहर में चली थी। आज से 158 वर्ष पूर्व 21 दिसम्बर, 1851 को दो बोगियों वाली ट्रेन रुड़की से पिरान कलियर के लिए चली थी। इस ट्रेन का उपयोग माल ढुलाई के लिए किया गया था।आम आदमी को रुड़की की इस उपलब्धि से परिचित कराने के लिए इस ऐतिहासिक ट्रेन के इंजन को रुड़की रेलवे स्टेशन के प्रांगण में रखा गया है।
उन्नीसवीं शताब्दी में अंग्रेजों के शासनकाल में हरिद्वार से गंगा नदी को उत्तर भारत से जोड़ने के लिए गंग-नहर का निर्माण किया जा रहा था। नहर निर्माण के दौरान लाखों टन मिट्टी को हटाने में दिक्कत आ रही थी। पहले तो श्रमिकों से मिट्टी से भरे हुए डिब्बों को खिचवाने की कोशिश की गई लेकिन सफलता नही मिली। अतः घोड़ों से इन डिब्बों को खिंचवाया गया, लेकिन इसमें बहुत देर लग रही थी। नहर निर्माण की योजना में बिलम्ब होते देख कार्यदायी संस्था द्वारा इंग्लैण्ड से विशेषरूप से माल ढोने वाले वैगन और इंजन को मँगवाया गया।
छह पहियों और 200 टन भार की क्षमता वाली इस ट्रेन को चलाने के लिए रुड़की से पिरान-कलियर के मध्य रेल पटरियाँ बिछाई गयीं।
21 दिसम्बर, 1851 को पहली बार रेल इंजन दो मालवाहक डिब्बों को लेकर रुड़की से पिरान-कलियर के लिए रवाना हुआ। भारत में पहली बार रेल-गाड़ी के चलने को लेकर पूरा देश उत्साहित था। चार मील प्रति घण्टे की गति से चलने वाले इस इंजन को देखने के लिए दूर-दराज के क्षेत्रों से भी हजारों लोग पहुँचे थे।
बाद में रुड़की रेलवे स्टेशन की स्थापना होने पर इस ऐतिहासिक इंजन को स्टेशन के प्रांगण में लोगों के दर्शनार्थ स्थापित कर दिया गया है। 
रुड़की रेलवे स्टेशन प्रांगण में एक शिलापट्ट पर भी सुनहरे अक्षरों मे इस ऐतिहासिक घटना का उल्लेख दिखाई देता है।
(खटीमा मॉर्निंग  अंक-51 से साभार)

22 comments:

  1. सामान्य ज्ञान की पुस्तकों में इस बात का ज़िक्र नहीं किया जाता. इस सूचना के लिए धन्य वाद.

    ReplyDelete
  2. दिनेश जी की बात से सहमत ! आम लोग तो महाराष्ट्र के थाणे में चली रेल को ही भारत का पहला रेल प्रयोग मानते है ! अच्छी जानकारी !

    ReplyDelete
  3. अच्छी जानकारी। धन्यवाद।

    ReplyDelete
  4. हम भी पुणे ओर थाणे वाली ट्रेन को ही पहली ट्रेन मानते थे आभार..

    ReplyDelete
  5. uttam jaankaari ke liye shukriyaa shastri ji....
    bahut kuchh seekhne milta hai aap se....

    ReplyDelete
  6. Badee mahatw poorn jankaaree dee...rudkee ka kuchh any wajoohaat ko leke naam to suna tha,lekin yah jaankaaree nahee thee..

    ReplyDelete
  7. रेलवे इतिहास का प्रथम पृष्ठ उकेरने के लिए धन्यवाद॥

    ReplyDelete
  8. bahut hi gyanvardhak jankari di..........shukriya.

    ReplyDelete
  9. बहुत अच्छी लगी यह जानकारी..... हम तो बॉम्बे तो ठाणे ही जानते थे.....

    ReplyDelete
  10. इस तरह की जानकारियाँ ज़रूरी हैं.......इसके लिए आपका धन्यवाद

    ReplyDelete
  11. अच्छी ज्ञानवर्धक जानकारी | शुक्रिया

    ReplyDelete
  12. रोचक और नई जानकारी। आभार।

    ReplyDelete
  13. ये नयी बात पता चली.

    ReplyDelete
  14. मुझे भी पहली बार पता लगा। पर यह केवल गुड्स के लिए थी और इस का उल्लेख बहुत कम किया जाता है। पहली पैसेंजर ट्रेन बोरीबंदर से ठाणे तक का ही अक्सर उल्लेख देखा है। जानकारी देने के लिए धन्यवाद!

    ReplyDelete
  15. बहुत अच्छी जानकारी है धन्यवाद।

    ReplyDelete
  16. बहुत ही रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी..आभार शास्त्री जी

    ReplyDelete
  17. shastri ji,
    hame bhi pahle se hi maaloom tha ki roorkee me pahli train chali thi tabhi to hamne ek post bhi likhi thi:
    http://neerajjaatji.blogspot.com/2008/12/blog-post_25.html

    ReplyDelete
  18. शास्त्री जी,
    इतनी अच्छी ऐतिहासिक जानकारी के लिए धन्यवाद!

    ReplyDelete
  19. बहुत ही रोचक जानकारी वाली पोस्ट। आभार।
    पूनम

    ReplyDelete
  20. bahut achi jankari relve ki prani jankari padhkar achha lagta hai.

    ReplyDelete

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।