समर्थक

Friday, 6 January 2012

"विनीत संग पल्लवी-सत्यकथा" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")

उसके मन में बहुत कुंठाए थीं, जिसके कारण मेरा छोटा पुत्र लगभग मानसिक रोगी हो गया था। कभी दिल में दर्द तो कभी उसके सिर में भयंकर दर्द हो जाता था। वह बहुत दिनों से मन में दबाए हुए बैठा था कि कैसे वह अपना राज़ परिवार वालों के साथ साझा करे।
लेकिन एक दिन मैंने प्यार से उससे पूछ ही लिया कि बेटा क्या बात है जो तुम युवावस्था में इतने परेशान रहते हो।
उसने कहा- पापा पहले यह बताओ कि मेरी बात सुनकर आप मुझे घर से तो निकाल नहीं दोगे।
मैंने कहा- बेटा! तुम कैसी बात करते हो? कोई अपनी सन्तान को घर से भला क्यों निकालेगा?

बेटे ने उत्तर दिया- पापा मैंने दो साल पहले 2 फरवरी, 2010 को आर्य समाज, पीलीभीत में शादी कर ली है और उसके बाद हिन्दू विवाह अधिनियम के अन्तर्गत सितारगंज फैमिली कोर्ट से अपने विवाह को पंजीकृत भी करा लिया है।
मैंने सहजभाव से पुत्र विनीत के निर्णय को स्वीकार कर लिया और उसे बधाई दी। अब मैंने पूछा कि हमारी बहू कौन है और क्या करती है. कहाँ की रहने वाली है?
विनीत ने बताया कि पापा! वह इंजीनियर है। उसका नाम पल्लवी है, रुड़की की रहने वाली है और देहरादून में मैनेजमेंट के किसी इंजीनियरिंग कॉलेज में पढ़ाती है।
इस पर मैंने विनीत से कहा कि बेटा! पल्लवी को शीघ्र ही यहाँ बुला लो। मेरी बात मानकर उसने पल्लवी को घर पर बुला लिया है।
विनीत की मम्मी जी ने थोड़ा सा विरोध तो अवश्य किया लेकिन अब उन्होंने भी पल्लवी को अपनी बहू के रूप में स्वीकार कर लिया है। हमारे घर में तो खुशियाँ अनायास ही खुद-ब-खुद चल कर आ गईं हैं।
सोच रहा हूँ कि इनकी वैवाहिक वर्षगाँठ पर पूरे शहरभर का प्रीतिभोज करके दोनों के विवाह को सामाजिक मान्यता भी दिला दूँ!
बेटी के रूप में मिली पुत्रवधु "पल्लवी"
पुत्रवधु को आशीर्वाद देते हुए हम पति-पत्नी
विनीत ने परिवार की मौजूदगी में पल्लवी को अँगूठी पहनाई।
पल्लवी की सासू माँ
विनीत से अपनी बहू की माँग भरवाती हुई।
सुहाग का प्रतीक विछुए पहनाई हुई श्रीमती अमर भारती
अब पैरों में पायल भी तो पहनानी थी।
श्रीमती अमर भारती अपने गोत्र "गरुड़िया" का नाम लेकर
दोनों का सिरजोड़ा करके अपने गोत्र में मिलाती हुई
अपनी दादी सासू के साथ श्रीमती पल्लवी
हम दोनों ने वस्त्र और आभूषण देकर
पल्लवी को अपनी पुत्रवधु के रूप में स्वीकार कर लिया!
चि.विनीत और आयुष्मती पल्लवी

जुग-जुग जियो और सदा फूलो-फलो!

55 comments:

  1. ममता की भेंट लिये कब से खड़े हैं ,
    सुनने को तुम्हारे मृदु पगों की रुनझुन ,
    पधारो प्रिय पुत्र-वधू !

    ReplyDelete
  2. Bete ke vivah par maa pita ka sneh bahut hee prashnsniya hai... Bahu beta ghar parivar me prem kee jyoti jalayen.. aur sukhi vaivahik jiwan ho... var vadhu ko shubhkaamnayen... Shastri ji aur Amar Bharti ji ko badhai..

    ReplyDelete
  3. चि विनीत और आयुष्मती पल्लवी को बहुत बहुत बधाई । आपने वधु को अपनाकर सही काम किया शास्त्री जी ।
    नव विवाहित युगल को हार्दिक शुभकामनायें ।

    ReplyDelete
  4. आदर्श प्रस्तुत किया है आपने.

    ReplyDelete
  5. शास्त्री जी, इस शुभ अवसर पर आपको बधाई और वर-वधू को आशीर्वाद! ईश्वर उनका वैवाहिक जीवन सफल करे!

    ReplyDelete
  6. Mubarak ho.

    Aapne bahut achha faisla liya .

    ReplyDelete
  7. बधाई ...
    अनुकरणीय है यह प्रसंग

    ReplyDelete
  8. शास्त्री जी,सही फैसला लिया,शुभकामनाएं,बधाई

    ReplyDelete
  9. बधाई ||
    शुभकामनाएं ||

    ReplyDelete
  10. आपका फैसला सराहनीय हें ---नव जोड़े को शुभकामनाए ---- पर शास्त्री जी वीनित को गुपचुप विवाह करने की क्या जरूरत थी ? --यह बात भी स्पष्ट होती तो अच्छा रहता ...! वैसे आपको भी बहुत -बहुत शुभकामनाए ........

    ReplyDelete
  11. bahut bahut badhaai.aap ne putra,bahu ko apnaya usko parivaar ke rasmo rivaaz se apnaya bhut shreshth kaam kiya hum logon ki najron me aap aur uooche uth gaye.beta bahu ko humara aashirvaad.aap donon ko dheron badhaaiyan.ab to aap dehradun jaroor aayenge.milna mat bhooliyega.

    ReplyDelete
  12. प्रेम विवाह करने वालों को दुनिया भर की तकलीफें झेलनी पडती है.... घर परिवार का विरोध झेलना पडता है, इन बातों को मैं अच्‍छी तरह समझ सकता हूं...... पर आपने सहर्ष अपने बेटे के प्रेम विवाह को मान्‍यता देकर उनको अपनाया, ये एक अनुकरणीय उदाहरण है.... बधाई हो आपको और नवयुगल जोडे को शुभकामनाएं........

    ReplyDelete
  13. शुभकामनायें ..
    kalamdaan.blogspot.com

    ReplyDelete
  14. अनुकरणीय फैसला.. बधाई और शुभकामनायें ...

    ReplyDelete
  15. आपका फैसला सही है।
    पुत्र और पुत्रवधु को ढेर सारी शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  16. विनीत और पल्लवी को बहुत बहुत बधाई । आपने वक्त के साथ सही निर्णय लिया शास्त्री जी ।
    नव विवाहित युगल को हार्दिक शुभकामनायें ।

    ReplyDelete
  17. anukariniya pahal ki hai aapne..
    nav dampati ko haardik shubhkamnayen!

    ReplyDelete
  18. हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  19. अनन्त शुभकामनाएं...

    ReplyDelete
  20. नव दम्पति को 'अखंड सुख सौभग्य' एवं 'शुभ कामनाएं'

    ReplyDelete
  21. ek behtareen nirnay ke liye badhai sir!!
    dil se shubhkamnayen... dono yugal jodi ko:)

    ReplyDelete
  22. सबसे पहले तो इन दोनो को सुखी वैवाहिक जीवन के लिए शुभकामनाएँ!!

    अब आपके ममतामय निर्णय के लिए हार्दिक बधाई, और इस विवाह के उपलक्ष और बहु के घर आने की खुशी में ढेर सारी शुभकामनाएँ।

    पुत्र विनित वास्तव में विनित है, सम्मान करता है। उसे बधाई सहित अनंत शुभकामनाएँ!!

    ReplyDelete
  23. आपका फैसला सराहनीय है

    बधाई और शुभकामनायें

    ReplyDelete
  24. नव विवाहित युगल को हार्दिक शुभकामनायें!
    आपको और अमर भारती जी को बधाई!

    ReplyDelete
  25. अनुकरणीय फैसला |
    बधाई और शुभकामनायें |

    ..

    ReplyDelete
  26. aaplogon ke is sunder vyvhaar se bahuton ko prerna leni chahiye.hamari shubhkamnayen lijiyega.

    ReplyDelete
  27. बेटे की शादी और सही फैसला लेने के लिए बहुत-बहुत बधाई

    ReplyDelete
  28. अरे! चलो अच्छा हुआ
    माता-पिता को थोडा खेद तो होता है लेकिन बच्चों की खुशी में ही अपनी खुशी देखते हैं।
    आपने बढिया किया और नगर प्रीतिभोज वाला फैसला बहुत सुन्दर है।
    विनीत-पल्लवी की जोडी बहुत प्यारी है, इनके सफल-सुखद भविष्य के लिये शुभकामनायें
    दादी जी को भी मेरा चरण-स्पर्श कहियेगा

    प्रणाम

    ReplyDelete
  29. ये आपके दिये संस्कार ही हैं कि विनीत पिछले दो साल से भीतर ही भीतर खुद को सजा दिये जा रहा था।

    ReplyDelete
  30. आदरणीय शास्त्री जी ...नमन है आप को ...आप के दिए गए संस्कारों का... आप के दिए गए प्रेम का ..आज के जमाने में बेटा इस कदर छुपाये रहा खुद झेलता रहा ..काश सब बेटे माँ बाप को यों ही माने और बदले में उनके माँ बाप --आप सा इतना बड़ा दिल रख बधू को स्वीकार करें ..उन्हें अद्भुत प्यार दें ...शादियाँ और इस तरह के कदम उठाने से पहले बेटे कहाँ किस के साथ क्या कर रहे हैं अगर ये ख्याल रख कुछ करें तो ये और सहज हो जाता है ..
    जय श्री राधे ...सुन्दर मिसाल ...बधू और वर को हमारी तरफ से ढेर सारी शुभ कामनाएं
    भमर ५

    ReplyDelete
  31. Mummy-Papa ke aashirwad ke saa
    th saath aapke sneh evam aashirwad ke liye hum aapke hriday se aabhari hain.

    ReplyDelete
  32. waah! kya baat hai, kitne udaar dil ka parichay diya aap ne ,nav vivahit jode aur saas sasur ko khub shubhkaamnaye....aadrsh parstut kiya aap ne.....

    ReplyDelete
  33. आपके अनुकरणीय ममतामयी अनुग्रह को कोटि कोटि नमन.....नव युगल दम्पति पर भगवान बद्रीविशाल की असीम अनुकम्पा सदा बनी रहे....अपार शुभ कामनाएं !!!

    ReplyDelete
  34. आपका पोस्ट अच्छा लगा । मेरे नए पोस्ट "धर्मवीर भारती" पर आपका सादर आमंत्रण है । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  35. आप के पुत्र औत पुत्रवधु को अनेको शुभाशीष और शुभ कामनाएं!...आप को भी ढेरों बधाइयां!..सभी फोटोग्राफ्स सुन्दर है!

    ReplyDelete
  36. अनुकरणीय आदर्श स्थापित किया है आपने। आपके साहस को नमन।

    ReplyDelete
  37. विनीत और पल्लवी बहुत भाग्यशाली है जो आप जैसे माता पिता मिले .....

    ReplyDelete
  38. aapke saahsik, prasangik aur maanglik nirnay ka liye saadhuvad. Daawat par hak to hamaara bhi banta hai. Manyataprapt navdampati ko shubhkaamnayeen.

    ReplyDelete
  39. aapko bahut bahut badhai kash bhagvan aap jaesa pita sabhi ko de
    punah subhkamnayen
    saader
    rachana

    ReplyDelete
  40. बहुत -बहुत बधाई शास्त्री जी ....
    बहु तो बड़ी प्यारी है .....
    और सौभाग्यशाली है दादी का भी स्नेह मिला ....
    आपको जन्मदिन की भी शुभकामनाएं .....

    ReplyDelete
  41. आपने समाज में एक मिशाल प्रस्तुत किया है । मेरी ओर से हार्दिक शुभकामनाएं । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  42. aapko bahut bahut badhaiyan.....aapke ghar mein hamesha khushiyon kaa vaas rahe.....aur iss yugal jaode ko meri aor se haardik shubhkaaamnein....

    ReplyDelete
  43. सबसे पहले बधाई.....!
    प्रीतिभोज के आमंत्रण का इन्तिज़ार रहेगा.

    ReplyDelete
  44. पुत्र और पुत्रवधु को ढेर सारी शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  45. सही फैसला ,शुभकामनाएं,बधाई.

    ReplyDelete
  46. आपने इनको अपनाकर ऐसा काम किया है जो आज के इस दौर में बहुत ही कम लोग इस तरह से धेर्य रख पाते हैं.और सहर्ष स्वीकार करते हैं.आपकी पूरी फेमेली को मेरी ओर से भी बधाई .
    चर्चा मंच पर जाकर मुझे पता चला की डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक खुद एक बहुत ही अच्छे कवी हैं.इनकी इस ब्लॉग पर दूसरी ब्लोग्स की चर्चा की जाती है.वाकई ये काम भी काबिले तारीफ़ लगा.

    http://ishq-love.blogspot.com/ मोहब्बत नामा

    ReplyDelete
  47. हार्दिक बधाई ! आज के समय में यह व्यवहारिक और सहज है । विनीत और पल्लवी भाग्यशाली हैं कि उन्हें आपके जैसे माता-पिता मिले, पर वे इसलिए और ज्यादा सौभाग्यशाली और बधाई के पात्र हैं कि उन्होंने संयम और संकल्पित होकर अपने प्रेम को उसकी मंजिल तक पहुंचाया है ।

    ReplyDelete

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।