समर्थक

Saturday, 14 November 2009

"बाल-दिवस ऐसे मना!" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")



बाल-दिवस पर पं.जवाहरलाल नेहरू को
शत्-शत् नमन!


बाल-दिवस के अवसर पर सीनियर सिटीजन एशोसियेसन, खटीमा के 
तत्वावधान में श्री बी.के.जौहरी के सौजन्य से 
ग्राम-चारुबेटा में दलित एवं जनजाति के निर्धन बालकों को पाठ्य-सामग्री वितरित की गई।

मंचासीन अतिथिगण

नेहरू जी के चित्र पर माल्यार्पण करते हुए

बालकों को सम्बोधित करते हुए  डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 
(पूर्व सदस्य-अन्य पिछड़ा वर्ग आयोग, उत्तराखण्ड-सरकार)

मा.गोपालसिंह राना (विधायक-खटीमा)

कार्यक्रम के मुख्य-अतिथि मा.गोपालसिंह राना (विधायक)
संयोजक-वी.के.टण्डन
विशिष्ट-अतिथि डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 
(पूर्व सदस्य-अन्य पिछड़ा वर्ग आयोग, उत्तराखण्ड-सरकार) 

शिशुओं को लेखन-सामग्री वितरित की।

11 comments:

  1. sach asli tarika to yahi hai baal diwas manane ka.........bahut hi badhiya.

    ReplyDelete
  2. बहुत बहुत बधाई आपको यह गौरब प्राप्त करने का लिए ......इस नेहरु टोपी में जँच रहे हैं .....!!

    ReplyDelete
  3. बाल दिवस की और टोपी में आपकी तस्वीरें देखकर बड़ा अच्छा लगा शास्त्री जी.
    थोडा सा प्रयास हमारा भी देख लें कृपया.

    ReplyDelete
  4. बहुत ही प्रशंसनीय एवं सराहनीय ।

    ReplyDelete
  5. यह देखकर अच्छा लगा .बधाई ।.बाल दिवस के अलावा बीच बीच मे भी बच्चों की सब लोग खोज खबर लेते रहें तो कितना अच्छा हो ।

    ReplyDelete
  6. बाल दिवस पर आपने बहुत ही सुंदर आयोजन किया है ! सभी बच्चों को इसी तरह से सिर्फ़ साल में एक ही दिन नहीं बल्कि साल भर यूँ ही प्यार मिलता रहे ! बहुत सुंदर लगी सारी तस्वीरें! आपने चित्रों के साथ बहुत ही अच्छा वर्णन किया है! बहुत खूब लग रहे हैं शास्त्री जी आप टोपी पहनकर और स्मार्ट भी !

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर प्रशंसनीय बधाई

    ReplyDelete
  8. bahut shaandaar koshish badhaai!!!!

    ReplyDelete
  9. shabdo mein bayaan karna shaayad mushkil hoga...
    prashansneey....

    ReplyDelete

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।