समर्थक

Monday, 26 October 2009

"ब्लॉगर मीट" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")


!! ब्लागिंग का भविष्य !!
ज सायं 6 बजे  डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" के निवास पर एक ब्लॉगर-मीट का आयोजन किया गया। जिसमे "ब्लागिंग का भविष्य" पर व्यापक चर्चा की गयी। चर्चा का प्रारम्भ खटीमा स्नातकोत्तर महाविद्यालय के हिन्दी विभागाध्यक्ष और "कर्मनाशा" नाम से ब्लॉग चलाने वाले डॉ.सिद्धेश्वर सिंह ने किया। 





उन्होने कहा कि ब्लॉगिंग से वो प्रसिद्धि नही मिलती, जो पत्र-पत्रिकाओं मे छपने पर मिलती है।


इनके सुर में सुर मिलाते हुए राष्ट्रपति पदक से अलंकृत "सरस पायस" के ब्लॉगर रावेंद्रकुमार रवि ने कहा कि हम लोग दस हजार रुपये प्रति वर्ष व्यय नेट पर व्यय करते हैं। इतना खर्च करके तो हम लोग एक बढ़िया लाइब्रेरी सजा सकते हैं।


अब "उच्चारण" के नाम से ब्लॉगिंग करने वाले डॉ..रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक" अर्थात्  मेरी बारी थी-
मैंने इस पर अपने विचार प्रकट करते हुए कहा - 
1- पत्र-पत्रिकाओं में छपने से केवल अपने देश में ही नाम मिल जाता है परन्तु देश-विदेश में प्रसिद्धि तो कुछ विरलों को ही मिल पाती है। जबकि ब्लॉगिंग से पूरी दुनिया में नाम तथा जान-पहचान हो जाती है।
2- दस हजार रुपये प्रति वर्ष खर्च करके एक बढ़िया लाइब्रेरी तो सजाई जा सकती है परन्तु इसमे सुसज्जित साहित्य को पढ़ना भी तो पड़ता है और सभी पुस्तकों को पढ़ना सम्भव नही होता है।
3- पुस्तक पढ़ने से ज्ञान तो निश्चितरूप से बढ़ता है लेकिन वाह-वाही नही मिलती है। मगर ब्लॉगिंग में तो इधर पोस्ट लगाओ और उधर वाहवाही से भरी टिप्पणी मिलनी शुरू हो जाती हैं। इससे प्रेरणा भी मिलती है और उत्साहवर्धन भी होता रहता है।


तभी सूरत (गुजरात) से हास्य-कवि अलबेला खत्री जी की चैट आ गयी। चैट में ही उनसे उनका मोबाइल नं. ले लिया गया। अब तो वे भी इस मीट में शामिल हो गये।
हास्य-कवि अलबेला खत्री जी ने कहा कि पढ़ना लिखना अपनी जगह महत्वपूर्ण है लेकिन ब्लॉगिंग का तो मजा ही अलग है।
अब आप क्या कहेंगे इस पर.............!

33 comments:

  1. आपकी एवं अलबेला जी की बात से पूर्णत्या सहमत

    ReplyDelete
  2. आप सभी को मेरा नमस्कार

    ReplyDelete
  3. वाह शास्त्रीजी वाह !

    आप तो मुझसे भी ज़्यादा उत्साही हैं.........

    मैं प्रणाम करता हूँ , दण्डवत करता हूँ

    आपकी ऊर्जा को,

    आपकी सजगता को

    आपके समर्पण को

    और आपके निर्बाध लेखन को !

    सचमुच आपकी बात में दम है ..........

    लाइब्रेरी बनाना अलग बात है

    और ब्लोगिंग के माध्यम से लोगों के दिलों में घर बनाना अलग बात है

    आपका धन्यवाद कि आपने मुझ अदना को भी सम्मिलित कर लिया

    आभार !

    ReplyDelete
  4. yeh baat to sahi hai ki blogging ka mazaa hi alag hai....

    ReplyDelete
  5. शास्त्री जी, ब्लागरी का क्या कहना?

    ReplyDelete
  6. आपने तो साहित्‍यकारों की आंखें ही खोल दीं। इस ब्‍लॉगर मीट में। जितना नशा बेजान पुस्‍तकों को पढ़ने में उससे अधिक आनंद तो जानदार से संपर्क करने, पढ़ने पढ़ाने, लिखने लिखाने में आता है। भला लाइब्रेरी में पुस्‍तकों के बीच बैठकर अलबेला जी से बात हो सकती है या साथ साथ कंप्‍यूटर पर लिखचीत (चैट) संभव है। बिल्‍कुल नहीं। तो ब्‍लॉगिंग का भविष्‍य उज्‍ज्‍वल है। इसकी ज्‍वाला धधकना शुरू हुई है। आगे आगे देखिए होता है क्‍या, हर घर, हर गांव, हर शहर यानी प्रत्‍येक इसकी चपेट में होगा, इसी से पेट भरेगा। पेट भरेगा तभी तो मानस की खुराक की जरूरत होगी। भूखे पेट न भजन होता है और न ब्‍लॉगिंग। जय ब्‍लॉग हिन्‍द।

    ReplyDelete
  7. बहुत सम्वेदनशील मुद्दे पर आप लोगो की ब्लॉगर्स मीट हुई इसके लिये बधाई ।
    मेरा मानना यह है कि यह दोनो माध्यम अलग अलग है और किसीकी किसीसे तुलना नही की जा सकती ।
    फि र भी ...
    दोनों में प्रसिद्धी या लोकप्रियता के भी मापदण्ड अलग अलग हैं । इसलिये कि दोनो माध्यम के पाठक अलग अलग हैं ( हाँ कुछ पाठक दोनो जगह है)
    ब्लॉगरी में गति है और सम्वाद दोनो ओर से है । प्रकाशन् मे भी सम्वाद है लेकिन समय लगता है ।
    पुस्तक प्रकाशित होने पर ही नाम का स्थायित्व (?) है,( पत्रिकाओं मे प्रकाशन का क्या कहें ,मेरी रचनायें 50 पत्रिकाओं मे छपी है लेकिन अब मै खुद ही नही बता पाउंगा किसमे क्या था , पाठक की कौन कहे )
    ब्लॉगिंग का ग्लैमर ,पत्रिका मे प्रकाशन से ज़्यादा है यहाँ रंग हैं तस्वीर है ..वगैरह ।लेकिन यह खर्चीला भी है।
    शेष के लिये तो पूरा लेख लिखना पड़ेगा । फिलहाल इतना ही कि सिद्धेश्वर जी का नाम एक लेखक के रूप मे वर्षों से सुन रखा था लेकिन पिछली मई में पाबला जी के सौजन्य से भिलाई में उनसे मुलाकात हुई । यह तो ब्लॉगरी से ही सम्भव हुआ ना । यह परम्परा साहित्य्कारों की बीच भी है ।
    वैसे आगे चलकर हर लेखक को ब्लॉगर होना ही है और हर ब्लॉगर को लेखक फिर इसमे विवाद कैसा ?हाँ साहित्य और साहित्येतर का झगड़ा नही होना चाहिये । धन्यवाद , ऐसे ही कभी कभी ऑन फोन हमे भी शामिल कर लिया कीजिये शास्त्री जी ।

    ReplyDelete
  8. आदरणीय शास्त्री जी
    आपकी व अलबेलाजी की बात मे भविष्य छिपा हुआ है। सहमत हू मै।

    ★☆★☆★☆★☆★☆★☆★☆★
    आप सभी मुलाकातियो का अभिनन्दन!!!!
    ★☆★☆★☆★☆★☆★☆★☆★

    ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥
    रावेंद्रकुमारजी रवि और डॉ.सिद्धेश्वर सिंहजी दोनो कि बात पर सहमति जताना निश्चित ही किसी के साथ अन्याय या न्याय वाली बात होगी। ब्लोगिग करना स्वय के आधिपत्य मे है

    पत्र पत्रिकाओ मे छपना परतन्त्र है। वहा आपको चापलुसी करना है यहा आपके मर्जी के मालिक है। आजकल ९०% युवा पत्रपत्रिकाओ को देखते तक नही है सिर्फ नेट और नेट पर सभी पढ लेते है। न्युज पेपर या मैगजिन तारिक बदलते ही पुराने पड जाते है, ब्लोगिग मे वैसा नही है। आधुनिक भारत कि दिशा को तय करने मे २०१५ तक हिन्दी ब्लोगिग का अहम किरदार होगा।
    ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥ ♥


    आभार

    हे! प्रभु यह तेरापन्थ
    SELECTION & COLLECTION

    ReplyDelete
  9. चैट से मीट में शामिल होना तो बहुत सुविधाजनक है। यही तरीका बढ़िया है।
    घुघूती बासूती

    ReplyDelete
  10. मैं समझता हूँ आपने अलबेला जी को सम्मलित कर ब्लॉगर मीट के लिए एक नया आयाम खोला है चैट के माध्यम से. इस तर्ज पर एक बड़े आयोजन की संभावना बनती है.

    अच्छा लगा विचार जानना!!

    ReplyDelete
  11. कोकास जी और समीर जी की बात से इत्तेफाक....रखता हूँ...मयंक जी को इस मीट के लिए बधाई..

    ReplyDelete
  12. badhiya charcha rahee...avinash ji kee baaton se sahmati hai...

    ReplyDelete
  13. rochak charcha rahi yahi utsaah aur junon blogging ko ek nayi disha de yahi hai hamari shubh kamna

    ReplyDelete
  14. ये होता है मल्टीमीडिया का उपयोग।

    चैट से, मोबाईल से, वेब कैम से, साक्षात्, सभी माध्यमों का समावेश कर क्यों ना एक अनूठी स्वीट सी मीट कर डाली जाए।

    वेबकास्ट भी हो जाए!!

    बी एस पाबला

    ReplyDelete
  15. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  16. शास्त्री जी भी सही है और शरद कोकास भाई भी...

    लेकिन मैं समझता हूं कि इंस्टेंट कॉफी की तरह ब्लॉग का सबसे सशक्त पहलू है इसके अंतर्संवाद की जबरदस्त क्षमता...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  17. आज का वक्त इन्टरनेट का है …………………और इससे बढिया माध्यम और क्या हो सकता है । …………………सिर्फ़ कुछ ही पलो मे हम एक दूसरे के विचारो से अवगत हो जाते है………………………आपका ये अन्दाज़ तो बहुत हि सार्थक लगा और दिल को भी बहुत भाया………………………इस तरह के आयोजन होते रहने चाहिये………………………शास्त्री जी आपको इस आयोजन के लिये हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
  18. congrats fot this meet shastri ji.
    ---------------------------------------------------------------------------------------------------------



    क्या होती है एक आदर्श ब्लोग्गर मीट , कैसे करते हैं उसकी रिपोर्टिंग , कैसे वहां बैठना, चलना और फोटू खिंचवाना ‘चहिये ‘ , और भी बहुत कुछ ……देखें सिर्फ़ यहाँ — maykhaana.blogspot.com

    ReplyDelete
  19. आपकी बात से पूर्णतया सहमति, और आपका यह आयोजन बहुत ही अच्‍छा रहा आभार के साथ बधाई ।

    ReplyDelete
  20. सच है ब्लॉगिंग का अलग ही मज़ा है लेकिन पत्रिकाओं में छपने का नशा भी कुछ कम नहीं.

    ReplyDelete
  21. सच तो ये है पत्रिका में छपने के लिए लेखक का नामचीन होना जरूरी है | सामान्य जन की रचना छपेगी या नहीं ,पता नहीं कब छपेगी , नहीं छापा तो वापस होगी नहीं होगी | छप जाने पर कितने लोग पढेंगे , क्या प्रतिक्रिया होगी | ब्लॉग इन सब से मुक्त है , जरूरत पड़ने पर बाद में एडिट भी कर लीजिये और सबसे अहम् बात की - सुझाव और प्रतिक्रिया तुंरत हाजिर | देश से भी और विदेश से भी

    ReplyDelete
  22. ब्लोगिंग और प्रकाशन, दोनों का अपना अपना स्थान है.
    लेकिन ब्लोगिंग सब कर सकते है, पर सब को रचनाएँ प्रकाशित करने का न तो अवसर मिल पता है और न सब में इतनी क्षमता होती है.
    वैसे घर पर ब्लोगर मीट का आइडिया अच्छा रहा.

    ReplyDelete
  23. ब्लोगिंग से प्रसिद्धि मिले ना मिले इसकी परवाह किसको है...हम तो ब्लॉग्गिंग करेंगे...दुनिया से नहीं डरेंगे...चाहे ये ज़माना कहे हमको दीवाना ..अजी हम तो ब्लॉग्गिंग करेंगे...
    नीरज

    ReplyDelete
  24. मै नीरज जी के विचारो से सहमत हूँ .

    ReplyDelete
  25. ब्लॉगिंग एक अभिव्यक्ति है..इसे व्यक्त करने के लिए ब्लॉग से बढ़िया स्थान कुछ नही हो सकता जहाँ पर लोग आप को सुनते है ,पढ़ते है और कहीं कुछ कमी रहे तो वही पर त्वरित टिप्पणी भी देते है..बढ़िया विचार सभी का..बधाई..

    ReplyDelete
  26. जब खेद के साथ रचनाये वापस आ जाती है दूसरी रचना भेजने का उत्साह कम हो जाता है |और आजकल पत्रिकाए और पुस्तके कितने लोग पढ़ते है ?इन्ही सब के बीच ब्लॉग लिखना और आपसी संवाद कि निरंतर लिखने कि प्रेरणा देता है | हा उपन्यास या महाकाव्य कि पुस्तको को पढ़ने कि बात अलग है |पर ब्लॉग कि बात बात निराली है |ऐसी मीट होती रहे और रिपोर्ट मिलती रहे आभारी है आपके |

    ReplyDelete
  27. आपकी बात से मैं भी पूरी तरह सहमत हूं।
    पूनम

    ReplyDelete
  28. blog ke madhayam se vastav mein hum international level tak judhkar apne baat sahi jagah pahucha paate hai.
    Shastri ji ko or sabhi blogger ko shubhkamnayein

    ReplyDelete
  29. bahबुत सुन्दर अब कवि सम्मेलन ब्लागर्ज़्मीट मे बदलने लगे हैं मगर शास्त्री जी हम क्या करें मेरे शहर मे तो केवल मैं ही एक ब्लागर हूँ । मीट रखूँ भी तो इतनी दूर कौन आयेगा? बहुत बहुत बधाई और धन्यवाद्

    ReplyDelete
  30. @ निर्मला कपिला

    जो भी मांसाहारी होंगे
    दौड़े चले आयेंगे पर
    मैं तो शाकाहारी हूं।

    ReplyDelete
  31. शास्त्री जी बहुत बढ़िया लगा ! खत्री जी को लाकर आपने चर्चे में जान डाल दिया ! सभी ब्लॉगर बंधुओं को मेरा नमस्कार और शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  32. बहुत सम्वेदनशील मुद्दे पर आप लोगो की ब्लॉगर्स मीट हुई इसके लिये बधाई ।

    ReplyDelete

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।