समर्थक

Thursday, 9 July 2009

‘‘बनबसा बैराज भगवान भरोसे’’ (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री ‘मयंक’)



एक समय वह था जब नेपाल सीमा पर स्थित नॅनीताल कमिश्नरी के बनबसा की धूम मची रहती थी।

यहाँ शारदा नदी पर बना यह बैराज लगभग 60-70 वर्ष पुराना है। यह भारत को उत्तरी नेपाल से जोड़ने वाला एक मात्र मार्ग हैं। यहाँ के गेस्ट हाउस आज भी अपनी शान-औ-शौकत के लिए प्रसिद्ध हैं।

अब यह स्थान उत्तराखण्ड के जिला चम्पावत में स्थित है।

अविभाजित उत्तर प्रदेश में इस बैराज रख-रखाव के लिए पर्याप्त धन प्रतिवर्ष आता था। आज भी इस बैराज पर उत्तर प्रदेश का कब्जा है। परन्तु है यह उत्तराखण्ड की भूमि पर। इसलिए उत्तर प्रदेश शासन ने इसकी ओर से अपनी नजर फेर ली है। क्योंकि देर-सबेर यह उत्तराखण्ड को ही हस्तान्तरित होना है।

इस बैराज से एक बड़ी नहर भी निकलती है। जिसको शारदा नहर के नाम से जाना जाता है। खटीमा में इसी नहर पर लोहियोड पावर हाउस के नाम से एक बिजलीघर भी है। इसके साथ ही इस बैराज से एक छोटी नहर नेपाल को भी दी गयी है।

बैराज पार करते ही भारत की सीमा पर स्थित कस्टम तथा इमीग्रेशन चेक पोस्ट भी हैं और लगभग 500 मीटर के बाद नेपाल देश की सीमा प्रारम्भ हो जाती है।

यदि इस बैराज की यूँ ही उपेक्षा होती रही तो इसका अस्तित्व समाप्त होने में देर नही लगेगी।

10 comments:

  1. पहली बार इस जगह के बारे मे सुना है आभार्

    ReplyDelete
  2. Purnagiri jate hue is pul ko dekha hai...per aaj iske bare mai apki post se kafi achhi jankari mil gayi...

    ReplyDelete
  3. हमारे यहां बहुत सारी ऐतिहासिक जगहें ऐसी हैं जो भगवान भरोसे ही हैं, और भगवान ही रक्षा कर रहे हैं। अच्छी जगह की जानकारी दी आपने।

    ReplyDelete
  4. is desh mein sab kuch bhagwan bharose hi chal raha hai...............sarkar se nhi bhagwan se hi aas lagaiye.

    ReplyDelete
  5. achcha dhyan dilaya aapne ek dharohar jo sarkaar ke upeksha ki shikaar hai..
    par yahi hai is bharat desh me janata kuch kar nahi pa rahi hai..

    dhyan dena chahiye aise etihasik dharoharon par..

    dhanywaad..

    ReplyDelete
  6. यह पोस्ट तो एक विहार की तरह है
    ---
    विज्ञान । HASH OUT SCIENCE

    ReplyDelete
  7. achchai jaankari mili vaise aapke raste aapna aana jaana laga rahta hai.. tab kayi baar isko dekha bhi hai... abhi kuch sal se yaha aana nahi hua hai . jo bhi ho jaankari dene ke liye aapka aabhar

    ReplyDelete
  8. na jane kab tut jamydga 106 sal to ho gai he abi bi band nhi hota he na he ripeyarhng hoti he.

    ReplyDelete

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।