समर्थक

Tuesday, 3 May 2011

"सम्मान की गूँज" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री "मयंक")


दैनिक अमर उजाला, नैनीताल में 
परिकल्पना एवं हिन्दी साहित्य निकेतन 
सम्मान की गूँज!
3 मई, 2011 के अमर उजाला के 
नैनीताल संस्करण में 
पृष्ठ-7 पर पहले कालम में 
युवा ऊधमसिंहनगर के अन्तर्गत 
उपरोक्त समाचार प्रकाशित हुआ है!

20 comments:

  1. aadarniy sir
    aappko is samman ke liye bahut bahut hardik badhai.
    waqai aap is samman ke puri tarah se haqdaar hain.bahut hi achha laga is aayojan ke baare me jaan kar.
    vaise bhi aap hamesha hi mere liye aadarsh ke roop me rahae hain.aasha hai aage bhi mera isi tarah marg darshan karenge
    punah hardil badhai swikaaren
    sadar naman
    poonam

    ReplyDelete
  2. शास्त्री जी ,
    अमर उजाला में आपको देखकर बहुत प्रसन्नता हुयी । बधाइयाँ और मिठाईयाँ ।

    ReplyDelete
  3. हार्दिक बधाइयां।

    ReplyDelete
  4. बहुत बहुत मुबारक , शास्त्री जी । आपसे मिलने का संयोग नहीं बन सका ।

    ReplyDelete
  5. बहुत बहुत मुबारक , मयंक जी

    ReplyDelete
  6. Aapko phir ek baar badhayee! Sammelan me aapko dekh ke chitt prasann hua! Kaash! Kuchh baat cheet bhee ho patee!

    ReplyDelete
  7. हार्दिक शुभकामनायें ...

    ReplyDelete
  8. बहुत बहुत वधाइया स्वीारें सर

    ReplyDelete
  9. हार्दिक बधाइयां। शास्त्री जी,

    साथ ही शुभ शुभकामनायें ॥

    निरामिष: अहिंसा का शुभारंभ आहार से, अहिंसक आहार शाकाहार से

    ReplyDelete
  10. बहुत बहुत बधाई शास्त्री जी !

    ReplyDelete
  11. ब्लॉग जगत में पहली बार एक ऐसा सामुदायिक ब्लॉग जो भारत के स्वाभिमान और हिन्दू स्वाभिमान को संकल्पित है, जो देशभक्त मुसलमानों का सम्मान करता है, पर बाबर और लादेन द्वारा रचित इस्लाम की हिंसा का खुलकर विरोध करता है. साथ ही धर्मनिरपेक्षता के नाम पर कायरता दिखाने वाले हिन्दुओ का भी विरोध करता है.
    इस ब्लॉग पर आने से हिंदुत्व का विरोध करने वाले कट्टर मुसलमान और धर्मनिरपेक्ष { कायर} हिन्दू भी परहेज करे.
    समय मिले तो इस ब्लॉग को देखकर अपने विचार अवश्य दे
    .
    जानिए क्या है धर्मनिरपेक्षता
    हल्ला बोल के नियम व् शर्तें

    ReplyDelete
  12. "शब्दों के इस जंगल में हम भी शरीक हैं "आपका सम्मान हुआ ,गौरवान्वित हम भी महसूस कर रहें हैं .बधाई !

    ReplyDelete
  13. शास्त्री जी बहुत बहुत बधाई

    ReplyDelete
  14. हार्दिक शुभकामनायें ...

    ReplyDelete

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।