समर्थक

Monday, 1 August 2011

“मेरी पन्तनगर यात्रा” (डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री “मयंक”)

मेरी एक दिन की पन्तनगर यात्रा
बहुत दिन हो गये थे घर में पड़े-पड़े!
रोज़मर्रा का वही काम। सुबह ठना कम्प्यूटर खोलना, मेल चेक करना और ब्लॉगिंग करना। 
इस काम से अब खीझ होने लगी थी! इसलिए सोचा कि कहीं पर घूम आया जाए। 
तभी अपने शिष्य सुरेश राजपूत का फोन आ गया कि गुरू जी मेरे पास आ जाइए ! 
मेरा भी मन था कहीं घूमने जाने का। 
तब मैंने 30 जुलाई को अपराह 3 बजे कार निकाल ही ली 
और चल पड़ा पन्त नगर की यात्रा के लिए।
रास्ते में किच्छा का रेलवे क्रॉसिंग पड़ा वह बन्द था इस लिए मुझे रुकना पड़ा।
KICHCHHA
सोचा कि कैंमरे से कुछ फोटो ही खींच लिए जाएँ।
IMG_1206
तभी मीटर गेज की रेलगाड़ी किच्छा की ओर से आती हुई दिखाई पड़ी!
उसके बाद मैं पन्तनगर पहुँच गया!
सीधे सुरेश जी के घर पहुँचा और पेटभर कर चाय नाश्ता किया!
IMG_3999

यह है सुरेश राजपूत का घर। 
दोमंजिले पर रहते हैं वो अपनी माता जी के साथ।
IMG_4147
सुरेश जी के घर के बाहर अमरूद के पेड़ लगे हैं।
IMG_4146

जिन पर अमरूद के फल लगे थे!
IMG_4145
खाली जगह में भिण्डी के पौधे भी लगाए हुए हैं।
IMG_4144
इन पर भिण्डी के फूल और कलियाँ भी दिखाई दे रहीं थीं।
IMG_4143

घर के बाहर रोड के किनारे नीम का एक पेड़ भी मुझे दिखाई दिया।
IMG_4151
जिसके नीचे ही मैंने अपनी कार खड़ी की थी।
नीम के पेड़ पर निम्बौरियाँ लदी हुई थीं और वो पर कर नीचे टपक रहीं थी।
IMG_4153
इसके बाद हम लोग पन्तनगर के अन्तरराष्ट्रीय अतिथि गृह में गये। 
सुरेश जी ने मेरे रात्रि विश्राम का प्रबन्ध यहाँ ही किया था।
IMG_4140
गेस्ट हाउस के बाहर का नजारा बहुत मनमोहक था।
IMG_4139
चारों ओर हरियाली ही हरियाली पसरी थी
IMG_4138
मैदान में चीड़ का यह विशालकाय वृक्ष 
उत्तराखण्ड के पहाड़ी राज्य का आभास करा रहा था !
सुरेश जी ने अपनी फोटो भी इसी चीड़ के पेड़ के नीचे खिंचवाई।
IMG_4142
इसके बाद मेरी भी फोटो सुरेश जी ने खींच ही ली!
IMG_4141
सुरेश राजपूत जी ने अपने घर की सीढ़ियों के साथ 
दीवार में गणेश जी की बहुत सारी पेंटिग अपने हाथों से बनाईं हैं।
IMG_3987
IMG_3992
IMG_3989
यहाँ आने और जाने पर मैं गणेश जी को प्रणाम करना न भूला!
इस प्रकार से मेरी एक दिन की पन्तनगर विश्वविद्यालय की यात्रा सम्पन्न हुई!

15 comments:

  1. bahut hi sundar hai,
    aap ka chotha safar , aur suresh ji ko mara naman ka dijiyega

    ReplyDelete
  2. मुबारक हो।
    बड़े ही मनोरम वातावरण से आप हो आए।

    ReplyDelete
  3. सुरेश जी की पेंटिंग्स तो लाज़वाब हैं .
    और आपकी नज़र भी . बहुत बारीकी से निरिक्षण किया है . बढ़िया रहा .

    ReplyDelete
  4. Shastri ji kabhi kabhi masheeni jindgi se kuch pal churakar ghoomna achcha lagta hai.apne ko fir se charge karne ke liye.bahut achcha vivran hai tasveeren bhi achchi lagi.

    ReplyDelete
  5. शास्त्री जी आपकी पंतनगर की यात्रा तो बहुत ही बढ़िया रहा! सुरेश जी का घर, बगीचा, अमरुद और भिन्डी के पेड़ और उनकी गणेश भगवान की बनायीं हुई पेंटिंग के क्या कहने! रेलगाड़ी से लेकर हर एक तस्वीरें बहुत सुन्दर लिया है आपने ! अच्छा लगता हैं यूँ एक दिन के लिए कहीं घूमने जाने में ! तस्वीरें और साथ में आपने विस्तारित रूप से वर्णन किया है एक पल के लिए लगा जैसे मैं भी पंतनगर घूमकर आ गई!

    ReplyDelete
  6. Bahut sundar tasveeren! Sureshji kee paintings bhee behad achhee hain! Maza aa gaya!

    ReplyDelete
  7. वाह गनेश जी की तस्वीर तो बहुत ही सुन्दर बनायी है सुरेश जी ने…………यात्रा तो बेहद सुखद रही।

    ReplyDelete
  8. खूबसूरत चित्रों से सजी सुन्दर यात्रा , आभार

    ReplyDelete
  9. छोटी सी यात्रा का अपना मजा होता है।

    ReplyDelete
  10. मै भी पंतनगर का प्रोडक्ट हूँ...इसलिए आई जी एच देख कर ही खुश हो गया...पूरा कैम्पस बहुत सुन्दर है...घुमे कि नहीं...

    ReplyDelete
  11. सफ़ल जात्रा की बधाई

    ReplyDelete
  12. ब्रेक के लिए बधाई ,चित्रमय मनोरम झांकी ,अमरुद लदे पेड़ दिखाने के लिए आभार .कृपया यहाँ भी पधारें .
    http://veerubhai1947.blogspot.com/
    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/

    ReplyDelete
  13. sundar anubhav...achha kiya humse baanta aapne...


    http://teri-galatfahmi.blogspot.com/

    ReplyDelete
  14. bahut sunder ...aap bhi dhummakkad ban gae shashtri ji ...

    ReplyDelete
  15. बहुत खूब लाजावाब लिखा है आपने बधाई स्वीकारें
    हमारे भी तरफ आने का कष्ट करेंगे अगर समय की पाबंदी न हो तो आकर हमारा उत्साहवर्धन के साथ आपका सानिध्य का अवसर दे तो हमें भी बहुत ख़ुशी महसूस होगी.....

    MITRA-MADHUR
    MADHUR VAANI
    BINDAAS_BAATEN

    ReplyDelete

केवल संयत और शालीन टिप्पणी ही प्रकाशित की जा सकेंगी! यदि आपकी टिप्पणी प्रकाशित न हो तो निराश न हों। कुछ टिप्पणियाँ स्पैम भी हो जाती है, जिन्हें यथासम्भव प्रकाशित कर दिया जाता है।